कभी लहरों सा शोर सुनाती हूँ
कभी गुमसुम सी चुप कर जाती हूँ ।
कभी बागों में, कभी कलियों पर
कभी डालों पर लहराती हूँ ।।

दिल की धड़कन को सुनने को
कभी हौले से रुक जाती हूँ ।
दस्तक न सुन कर कोई वहाँ
फिर आगे मैं बढ़ जाती हूँ ।।

ख्वाबों में गर आहट हो
फिर उनमें मैं बह जाती हूँ ।
ख्वाब ही था, न कोई हकीकत
फिर आँखों को समझाती हूँ ।।

अपनों से प्यार जताने को
जाने क्या-क्या खेल रचाती हूँ ।
बिन बात के ही इठलाती हूँ
बिन बात के ही इतराती हूँ ।।

कोई बात छिड़े तो फिर उसमें
कभी नदिया सी बह जाती हूँ ।
कोई बात नहीं फिर भी यूं ही
कभी कुछ कहने से घबराती हूँ ।।

कभी अपनों से ही मैं लड़ जाती हूँ
कभी गैरों से प्यार जताती हूँ ।
फूलों को ताव दिखाने को
कभी काँटों को सहलाती हूँ ।।

दूर गगन के ख्वाब सजा
कभी तितली सी मंडराती हूँ ।
पूरा ना हो ख्वाब तो फिर
कहीं झुरमुट में छुप जाती हूँ ।।

कोई बात नहीं फिर भी अँखियों से
कभी बादल सा बरसाती हूँ ।
कभी बात बड़ी फिर भी नयनों को
बिन असुयन के तरसाती हूँ ।।

लोगों को राह दिखाने को
कभी कोई शमा जलाती हूँ ।
वो शक्स तो पा जाता है मंजिल
उस शमा से मैं जल जाती हूँ ।।

दिल से जो बनते हैं रिश्ते
हर उस रिश्ते में मैं बस जाती हूँ ।
अपनों का प्यार मैं पाती हूँ
और उन पर जान लुटाती हूँ ।।

छोटी छोटी बातों में
जाने क्या खुशियाँ पाती हूँ ।
कभी यूं ही मैं शरमाती हूँ
कभी खुद पर ही बलखाती हूँ ।।

मीठे-मीठे ख्वाब सजा
शायद खुद को बहलाती हूँ ।
पर जीवन के कुछ प्रश्नों से
अब तो, मैं भी, कुछ कुछ घबराती हूँ।।

प्रीती कैथवास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *