Month: February 2018

मै

कभी लहरों सा शोर सुनाती हूँ कभी गुमसुम सी चुप कर जाती हूँ । कभी बागों में, कभी कलियों पर […]